नवरात्रि के 9 उपाय, 9 दिन में ये 9 मनोकामना हो जाती हैं पूरी

Share this

आगामी 6 अप्रैल 2019 से चैत्र मास की नवरात्र आरंभ होने वाली है, नवरात्रि को शक्ति की साधना का सबसे बड़ा समय माना जाता है । सभी हिन्दू धर्म शास्त्रों में इस काल में 9 दिनों तक आद्यशक्ति मां दुर्गा के 6 रूपों की विशेष पूजा आराधना की जाती है । वर्ष में कुल 4 नवरात्रि काल होते है, 2 गुप्त नवरात्र एवं 2 आश्विन एवं चैत्र नवरात्र । इन चारों में सबसे ज्यादा महत्व चैत्र नवरात्र होता हैं । अगर आपके जीवन में कोई परेशानी हो या को मनोकामना पूरी न हो रही हो नवरात्र के 9 दिनों तक ये 9 उपाय जरूर करें, माता रानी 9 दिनों में इच्छा पूरी कर देती हैं ।

नवरात्र के पूरे 9 दिनों तक माता के इन 9 बीज मंत्रों का जप करने से 9 दिनों मां दुर्गा ये 9 कामनाएं पूरी कर देती हैं ।
1- साधक के समस्त रोग नष्ट हो जाते है ।
2- जीवन दीर्घ आयु होता है ।
3- सभी प्रकार की ग्रह बाधा या भूत, प्रेत आदि की समस्त पीड़ा दूर हो जाती है ।
4- निसंतान (बाँझ) स्त्री शीघ्र गर्भ धारण करती है ।
5- साधक के घर में लक्ष्मी स्थिर हो जाती है ।
6- धनकामी को धन, विद्यार्थी को विद्या, यशकामी के यश प्राप्त होने के अनेक मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं ।
7- व्यापार, नौकरी में आने वाली बाधाएं दूर हो जाती है ।
8- ग्रह क्लेश सदैव के लिए दूर हो जाते है ।
9- बड़े से बड़े शत्रु भी मित्र बन जाते है ।

मां दुर्गा के 9 दिनों तक जपे जाने वाले 9 दिव्य शक्ति मंत्र
1- शैलपुत्री : ह्रीं शिवायै नम: ।
2- ब्रह्मचारिणी : ह्रीं श्री अम्बिकायै नम: ।
3- चन्द्रघंटा : ऐं श्रीं शक्तयै नम: ।
4- कूष्मांडा ऐं ह्री देव्यै नम: ।
5- स्कंदमाता : ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम: ।
6- कात्यायनी : क्लीं श्री त्रिनेत्रायै नम: ।
7- कालरात्रि : क्लीं ऐं श्री कालिकायै नम: ।
8- महागौरी : श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम: ।
9- सिद्धिदात्री : ह्रीं क्लीं ऐं सिद्धये नम: ।

उपरोक्त मंत्रों का जप करने से पहले जहां भी जप करें देवी मंदिर या फिर घर का ही पूजा स्थल पर एक गाय के घी दीपक जला लें, अब जल, लाल फूल, चावल (अक्षत) दाहिने हाथ में लेकर मां दुर्गा के 9 स्वरूपों का आवाहन् करें । इसके बाद तुलसी की माला से उपर दिये सभी मंत्रों को 108 – 108 बार 9 दिनों तक जप करें । आखरी दिन सभी मंत्रों 51 – 51 आहुति से हवन करें । मां सभी मनोकामनाएं पूरी कर देगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *