Sawan maas : घर में यहां स्थापित करें शिवजी का त्रिशुल, बनी रहेगी सुख-शांति और समृद्धि

Share this

सावन मास में शिवजी की पूजा पाठ तो विधि-विधान से की ही जाती है। लेकिन सावन माह में शिव पूजा के साथ ही अगर भक्त अपने घर में शिवजी की सबसे प्रिय त्रिशुल ( shiv trishul ) को घर के इस स्थान में स्थापित किया जाएं तो व्यक्ति के घर परिवार में सुख-शांति, सकारात्मकता का वातावरण के सदैव समृद्धि बनी रहती है। जानें घर में कहां और कैसे स्थापित करें शिवजी का त्रिशुल।

सावन मास: कालभैरव कालाष्मी आज, रात में कर लें ये छोटा सा उपाय महादेव कर देंगे हर मनोकामना पूरी

शिवजी की प्रिय वैसे तो अनेक चीजे हैं लेकिन जो सदैव उनके साथ रहता है वह उनका सबसे प्रिय त्रिशुल, अगर कोई भक्त सावन मास में किसी भी दिन अपने के पूजा स्थल में शिव जी की पूजा करने के बाद त्रिशूल का भी पंचोपचार पूजन करके स्थापित किया जा सकता है। जिस घर में शिव का त्रिशूल स्थापित होता है वहां की अनेक समस्याएं स्वतः ही दूर होने लगती है। त्रिशुल के अलावा शिवजी की इन चीजों को भी घर में स्थापित करने से शिवजी की कृपा हमेशा बनी रहती है।

सावन में महादेव के इस रूप के ध्यान मात्र से शत्रुओं से मिल जाती मुक्ति

1- अगर किसी घर का मुखियां अपने हाथों से स्वयं अपने कमरे या पूजा स्थल में पवित्र रुद्राक्ष को स्थापित करता है तो उनके घर में बुरी शक्तियों का प्रवेश कभी नहीं होता और घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। जहां सकारात्मक ऊर्जा होती है वहीं पर माता लक्ष्मी का वास होता है।

2- अगर घर में शिवजी कृपा सदैव चाहिए तो भगवान शिव के सामने भस्म जरूर रखें।

3- घर में भगवान शिव का प्रिय त्रिशूल स्थापित करने से हर प्रकार की बुरी शक्तियों का नाश होता है।

12 में से इन 7 ज्योतिर्लिंगों का पंचामृत से भूलकर भी नहीं करें अभिषेक

4- घर में बच्चों के कमरे में डमरू रखने से जीवन सरल, सात्विक व संगीतमय बनता है।

5- घर के किचन में गंगाजल और तिजोरी में चांदी या तांबे के नंदी रखने से ना तो धन का अभाव रहेगा और ना ही घर के लोगों में किसी प्रकार का मतभेद होगा।

6- अगर घर के आंगन या आसपास में बिल्व पत्र का पौधा होता है वहां भगवान शिव स्वयं वास करते हैं। अगर बिल्व पत्र का औधा ना हो तो घर के मुख्य दरवाज़े के पास चांदी या तांबे के नाग स्थापित करें।

*********

shiv ka trishul

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *