तीन नेत्रधारी माता कालरात्रि शनि को करेंगी शांत, ऐसे करें मां की उपासना

Share this

नवरात्रि के 7वें दिन देवी दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की पूजा की जाती है। मां कालरात्रि नवदुर्गा का सातवां स्वरूप हैं। देवी दुर्गा का यह स्वरूप सबसे भयंकर स्वरूप है। मां का रंग काला है और ये तीन नेत्रधारी है। मां के बाल बिखरे हुए हैं और गले में बिजली की तरह चमकने वाली माला है। देवी कालरात्रि के चार हाथ हैं। एक हाथ में कटार तो दूसरे हाथ में लोहे का कांटा है। जबकि अन्य हाथ वरमुद्रा औ अभय मुद्रा में है।

maa_kalratri1.jpg

शनि को शांत करेंगी मां कालरात्रि

मां कालरात्रि की पूजा बेहद शुभकारी होती है। मां कालरात्रि की पूजा करने से शत्रु और विरोधियों का नाश होता है। इसके अलावा दुर्घटना और रोगों का नाश होता है। माना जाता है कि मां कालरात्रि की पूजा करने से नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि को शांत करने के लिए मां कालरात्रि की पूजा अचूक मानी जाती है।

maa_kalratri.jpg

शनि को शांत करने के लिए ऐसे करें मां कालरात्रि की पूजा

अगर आपके कुंडली में शनि दोष है तो मां कालरात्रि के सामने घी के दीपक जलाएं। मां को लाल फूल अर्पित कर गुड़ का भोग लगाएं। इसके बाद दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। पाठ खत्म करने के बाद भोग लगाए गए गुड़ का आधा हिस्सा परिवार में बांट दें और आधे को पंडित जी को दे दें। ध्यान रखें कि मां की पूजा करते वक्त काले रंग के कपड़े ना पहनें। हो सके तो सफेद या लाल रंग के कपड़े पहनकर ही मां कालरात्रि की पूजा करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *