रावण ने मंदसौर की लड़की को किया था पसंद, आज भी लोग मानते हैं दामाद!

Share this

शारदीय नवरात्र के दशमी तिथि को रावण के पुतले का दहन किया जाता है। यूं तो रावण का नाम आते ही मन में लंका का ख्याल आता है लेकिन रावण का मध्यप्रदेश के मंदसौर से भी खास रिश्ता था। मंदसौर पहले दशपुर के नाम से जाना जाता था।

प्राचीन साहित्य और कई अभिलेखों में दशपुर का उल्लेख भी है। मंदसौर के खानपुर में रावण का प्रतिमा भी है। इस प्रतिमा का इतिहास बहुत पुराना है। यहां के लोगों का मानना है कि लंकापति रावण की पत्नी मंदोदरी का मायका मंदसौर ( दशपुर ) था। यही कारण है कि यहां के लोग रावण को दामाद मानते हैं।

ravana.jpg

मंदसौर में होती है रावण की पूजा

शारदीय नवरात्रि के दशमी को रावण का पुतला जलाकर बुराई का अंत किया जाता है लेकिन मंदसौर में रावण की साल भर पूजा की जाती है। ऐसा इसलिए किया जाता है कि यहां के लोग आज भी रावण को दामाद मानते हैं क्योंकि रावण की पत्नी मंदोदरी मंदसौर की थी।

ravana12.jpg

खानपुर में है रावण की 41 फीट ऊंची प्रतिमा

मंदसौर के खानपुर में रावण की 41 फीट ऊंची प्रतिमा है। इस प्रतिमा का इतिहास लगभग 400 साल पुराना बताया जाता है। यहां को लोग रावण की पत्नी मंदोदरी को बेटी मानते हैं। यही कारण है कि शहर की महिलाएं जब यहां से गुजरती हैं तो रावण की प्रतिमा के सामने घूंघट कर लेती हैं।

ravana123.jpg

यहां ऐसे मनाया जाता है दशहरा

दशहरे के दिन सुबह में लोग ढोल-नगाड़े बजाकर रावण की प्रतिमा की पूजा करते हैं और शाम में रावण का प्रतीकात्मक वध करते हैं। रावण के वध होने के बाद यहां की महिलाएं रावण की प्रतिमा पर प्रतिकात्मक तौर पर पत्थर भी मारती हैं। मान्यता है कि यहां रावण की पूजा करने से संतान की प्राप्ति होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *