आज का पंचांग ( शुक्रवार,11 अक्टूबर, 2019): इस दिशा में यात्रा करना रहेगा लाभकारी

Share this

शुभ विक्रम संवत् : 2076
संवत्सर का नाम : परिधावी
शाके संवत् : 1941
हिजरी संवत् : 1441,
मु.मास: सफर:11
अयन : दक्षिणायन
ऋतु : शरद्
मास : आश्विन
पक्ष : शुक्ल

आज का नक्षत्र (Today’s constellation)
पूर्वाभाद्रपद ‘उग्र व अधोमुख’ संज्ञक नक्षत्र अन्तरात्रि सूर्योदय पूर्व प्रात: 5.09 तक है। पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र सभी साहसिक व कला के कार्यों, विद्या, सगाई-रोका, कूप खनन आदि सभी कार्यों में शुभ व सिद्धिदायक है।

आज का योग (Today’s sum)
वृद्धि नामक योग अन्तरात्रि 3.30 तक, तदन्तर ध्रुव नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग है।

आज का विशिष्ट योग (Today’s Special Sum)
आज सूर्योदय से प्रात: 7.25 तक दोष समूह नाशक रवियोग नामक शक्तिशाली शुभ योग है।

करण: कौलव नामकरण प्रात: 9.06 तक, तदुपरान्त तैतिल- गरादि करण रहेंगे।

आज का शुभ मुहूर्त (Today’s auspicious time)
उपर्युक्त शुभाशुभ समय, तिथि, वार, नक्षत्र व योगानुसार आज किसी शुभ व मांगलिक कार्यादि के शुभ व शुद्ध मुहूर्त नहीं है।

आज के श्रेष्ठ चौघड़िए (Today’s Best Choghadiye)
आज सूर्योदय से पूर्वाह्न 10.47 तक क्रमश: चर, लाभ व अमृत, दोपहर 12.14 से दोपहर बाद 1.40 तक शुभ तथा सायं 4.33 से सूर्यास्त तक चर के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं एवं दोपहर 11.50 से दोपहर 12.37 तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभ कार्यारंभ के लिए अत्युत्तम हैं।

आज का व्रत (Today’s fast)
आज प्रदोष व्रत, पंचक व जयप्रकाश नारायण जयंती है तथा महापात सायं 5.45 से रात्रि 11.00 बजे तक है।

चन्द्रमा की स्थिति (Moon position)
चन्द्रमा रात्रि 10.27 तक कुम्भ राशि में, तदुपरान्त मीन राशि में रहेगा।

ग्रह राशि-नक्षत्र परिवर्तन: सूर्य देव प्रात: 7.25 पर चित्रा नक्षत्र में प्रवेश करेगा।

आज का दिशाशूल (Today’s direction)
शुक्रवार को पश्चिम दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। पर रात्रि 10.24 तक कुम्भ राशि के चन्द्रमा का वास पश्चिम दिशा की यात्रा में सम्मुख है। यात्रा में सम्मुख चन्द्रमा धनलाभ कराने वाला व शुभ माना जाता है।

आज का राहुकाल (Today’s rahukal)
प्रात: 10.30 से दोपहर 12.00 बजे तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारम्भ यथासंभव वर्जित रखना हितकर है।

आज जन्म लेने वाले बच्चे का नामकरण (Naming of child born today)
आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम (से,सो,द,दी,दू) आदि अक्षरों पर रखे जा सकते हैं। रात्रि 10.27 तक जन्मे जातकों की जन्म राशि कुम्भ व इसके बाद जन्मे जातकों की जन्म राशि मीन है। इनका जन्म लोहपाद से हुआ है, जो कुछ कष्ट कारक है। सामान्यत: ये जातक धनी, सुंदर, विद्यावान, कलाकुशल, बहुत बोलने वाले पर वासनासक्त अधिक होते हैं। इनका भाग्योदय लगभग 20-21 वर्ष की आयु तक हो जाता है। कुम्भ राशि वाले जातकों को आज अच्छा लाभ मिलते-मिलते रुक जाएगा। लापरवाही से कुछ नुकसान हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *