कार्तिक माह का सोमवार: तुलसी के 5 पत्तों से दूर होगा दुर्भाग्य

Share this

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, तुलसी भगवान विष्णु का प्रिये है। इसके अलावा शास्त्रों में तुलसी पत्तों का उपयोग करने के ऐसे उपाय भी बताए गए हैं, जो भाग्यवर्धन है। ऐसे में हम आपको तुलसी के 5 पत्तों का उपाय बताने जा रहे हैं, जिसे आप कार्तिक माह के सोमवार से शुरू कर सकते हैं।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि सोमवार का दिन भगवान शिव का दिन है। भगवान शिव को संहारक और औघड़ भी कहा जाता है। कहा जाता है कि भगवान शिव थोड़ी सी भक्ति से ही प्रसन्न हो जाते हैं और भक्तों की हर विपदा दूर करने लगते हैं। यही कारण है इस उपाय को जो भी सोमवार से शुरू करते हुए लगातार 7 दिनों तक करता है, वह भगवान शिव का कृपापात्र बन जाता है।

वैसे इस उपाय को आप किसी भी माह के किसी भी सोमवार से शुरू कर सकते हैं लेकिन कार्तिक का महीना भगवान विष्णु का महीना है और यह महीना भगवान शिव को बहुत ही पसंद है। ऐसे में मान्यता है कि इस माह में किए गए उपाय जल्द ही फल देने लगते हैं।

कार्तिक माह के सोमवार को क्या करें?

कार्तिक माह के सोमवार के दिन सुबह में स्नान करने के बाद भगवान शिव और विष्णु को ध्यान करते हुए घर में लगी तुलसी के 5 पत्ते तोड़ लें। इसके बाद पत्ते को गंगाजल से धो लें। ये सब करने के बाद तुलसी पत्ते को पूजा घर या उस जगह पर रखें, जहां कोई इसे हाथ ना लगाए।

इसके बाद रात में सोने से पहले इन पत्तों को अपने तकिये के नीचे रखकर सो जाएं। ध्यान रहे कि पत्तों को तकिए के नीचे रखते वक्त भगवान शिव से अपने जीवन से परेशानियों को दूर करने की मनोकामना करें। अगले दिन ( मंगलवार ) स्नान करने के बाद इन पत्तों को तकिये के नीचे से निकालें और बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। इस उपाय को आपको लगातार सात दिनों तक करना होगा। अगर आप लगातार सात दिनों तक ऐसा करेंगे तो इसका असर भी दिखने लगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *