एक बार कर लें ये उपाय, जिदंगी भर नहीं आएंगे बूरे, डरावने स्वप्न

Share this

Bure Sapne ke upay : एक बार कर लें ये उपाय, जिदंगी भर नहीं आएंगे बूरे, डरावने स्वप्न

क्या आपको नींद लगते ही बुरे और डरावने स्वप्न आने लगते हैं, जिस कारण नींद ही नहीं आती या बार-बार नींद खुल जाती है। अगर आपके या आपके किसी अपने के साथ ऐसा हो रहा है तो केवल एक बार कर लें ये छोटा सा आसान उपाय। इस उपाय के प्रभाव से जीवन भर बूरे और डरावने स्वप्न नहीं आएंगे।

इन सामग्रियों के बिना पूरी नहीं होती छठ मैया की पूजा

व्यक्ति का मन कभी-कभी किसी अप्रिय घटना से इतना क्षुब्ध हो जाता है कि न तो नींद ही ठीक से आती है और न ही स्वप्न अच्छे आते हैं। यदि थोड़ी बहुत नींद आये भी तो बुरे व डरावने सपनों की सेना उसका पीछा नहीं छोड़ती और व्यक्ति दु:स्वप्नों से इतना तंग आ जाता है कि उसे सोने से बिस्तर पर जाने से भी डर लगता है। अगर बुरे स्वप्न और अनिद्रा को हमेशा के लिए खत्म करना चाहते हैं, सभी प्रकार के भय और बूरे स्वप्न से मुक्ति चाहते हैं तो ये उपाय जरूर करें। कुछ ही दिनों अच्छी नींद आने लगेगी।

नवंबर 2019 के प्रमुख व्रत, पर्व और त्यौहार

1- अगर किसी को नींद नहीं आने की समस्या हो तो सोने से पहले हाथ-पैर धोकर बिस्तर पर बैठ जाये एवं इस मंत्र का मन ही मन 11 बार जप या उच्चारण करने के बाद सो जाये । ऐसा करते ही समस्या दूर हो जायेगी। इस प्रयोग को नियमित करें।
मंत्र
अगस्तिर्माधवश्चैव मुचुकुन्दो महाबल :।
कपिलो मुनिरास्तीक: पंचैते सुखशायिन:।।

2- आद्य शक्ति मां दुर्गा का एक रूप निद्रा यानी की योगनिद्रा भी है। इसलिए सोन से पहले हाथ-पैर धोकर बिस्तर को साफ करके बैठ जाये एवं दुर्गा सप्तशती के इस मन्त्र को 7 या 21 बार पढ़े औऱ फिर सो जाये। कुछ ही दिनों में समस्या खत्म हो जायेगी।
मंत्र
या देवी सर्वभूतेषु निद्रारूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

लौह पुरुष की लौह यात्राः सरदार वल्लभभाई पटेल जन्म जयंती 31 अक्टूबर

3- यजुर्वेद के इस मंत्र का 11 बार जप सोने से पहले लेटकर करें।
मंत्र
‘ॐ विश्वानि देव सवितु: दुरितानि परा सुव यद् भद्रं तन्न आ सुव।।

4- यदि किसी को बुरे स्वप्न आते हों तो रात्रि में हाथ-पैर धोकर अपने बिस्तर पर पूर्व दिशा की ओर मुख करके इस मन्त्र का 21 बार उच्चारण या जप करने से डरावने स्वप्न आने बंद हो जाएंगे।
मंत्र
वाराणस्यां दक्षिणे तु कुक्कुटो नाम वै द्विज:।
तस्य स्मरणमात्रेण दु:स्वप्न सुखदो भवेत्।।

*********

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *