शुक्रवार को इस स्त्रोत मंत्र से घर पर ही ऐसे करें यज्ञ, दौड़ी आएंगी माँ लक्ष्मी

Share this

शुक्रवार को इस स्त्रोत मंत्र से घर पर ही ऐसे करें यज्ञ, दौड़ी आएंगी माँ लक्ष्मी

अगर चाहते हैं कि धन की देवी माता महालक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहे तो, किसी भी शुक्रवार के दिन रात में 11 बजे से लेकर 1 बजे के बीच में इस महालक्ष्मी स्त्रोत से करें विशेष यज्ञ। यज्ञ से पूर्व विधिवत माता महालक्ष्मी का आवाहन पूजन करें। पूजन के बाद एक बार इस स्त्रोत का पाठ करके ही एक-एक स्त्रोत मंत्र से 3-3 आहुति यज्ञ में गाय के घी में कमल गट्टे मिलाकर देना है। कुछ ही दिनों में माता महालक्ष्मी की कृपा दिखाई देने लगेगी।

12 राशि के 12 रत्न पहनते ही दिखाने लगते हैं चमत्कार

इस महालक्ष्मी स्त्रोत से करें धन प्राप्ति के लिए विशेष यज्ञ

।। अथ श्री-सूक्त मंत्र पाठ ।।

1- ॐ हिरण्यवर्णां हरिणीं, सुवर्णरजतस्त्रजाम्।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं, जातवेदो म आ वह।।

2- तां म आ वह जातवेदो, लक्ष्मीमनपगामिनीम्।
यस्यां हिरण्यं विन्देयं, गामश्वं पुरूषानहम्।।

3- अश्वपूर्वां रथमध्यां, हस्तिनादप्रमोदिनीम्।
श्रियं देवीमुप ह्वये, श्रीर्मा देवी जुषताम्।।

4- कां सोस्मितां हिरण्यप्राकारामार्द्रां ज्वलन्तीं तृप्तां तर्पयन्तीम्।
पद्मेस्थितां पद्मवर्णां तामिहोप ह्वये श्रियम्।।

चुटकी भर हींग सभी संकटों से दिलाएगी मुक्ति, जानें कैसे?

5- चन्द्रां प्रभासां यशसा ज्वलन्तीं श्रियं लोके देवजुष्टामुदाराम्।
तां पद्मिनीमीं शरणं प्र पद्ये अलक्ष्मीर्मे नश्यतां त्वां वृणे।।

6- आदित्यवर्णे तपसोऽधि जातो वनस्पतिस्तव वृक्षोऽक्ष बिल्वः।
तस्य फलानि तपसा नुदन्तु या अन्तरा याश्च बाह्या अलक्ष्मीः।।

7- उपैतु मां दैवसखः, कीर्तिश्च मणिना सह।
प्रादुर्भूतोऽस्मि राष्ट्रेऽस्मिन्, कीर्तिमृद्धिं ददातु मे।।

8- क्षुत्पिपासामलां ज्येष्ठामलक्ष्मीं नाशयाम्यहम्।
अभूतिमसमृद्धिं च, सर्वां निर्णुद मे गृहात्।।

जानें अच्छी-बुरी आत्माएं किससे और कैसे संपर्क करती है.. अविश्वसनीय गुड़ रहस्य

9- गन्धद्वारां दुराधर्षां, नित्यपुष्टां करीषिणीम्।
ईश्वरीं सर्वभूतानां, तामिहोप ह्वये श्रियम्।।

10- मनसः काममाकूतिं, वाचः सत्यमशीमहि।
पशूनां रूपमन्नस्य, मयि श्रीः श्रयतां यशः।।

11- कर्दमेन प्रजा भूता मयि सम्भव कर्दम ।
श्रियं वासय मे कुले मातरं पद्ममालिनीम्।।

12- आपः सृजन्तु स्निग्धानि चिक्लीत वस मे गृहे।
नि च देवीं मातरं श्रियं वासय मे कुले।।

तांत्रिक के टोने-टोटके आखिर है क्या, जानें पूरा रहस्य

13- आर्द्रां पुष्करिणीं पुष्टिं पिंगलां पद्ममालिनीम्।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं, जातवेदो म आ वह।।

14- आर्द्रां य करिणीं यष्टिं सुवर्णां हेममालिनीम्।
सूर्यां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आ वह।।

15- तां म आ वह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम्।
यस्यां हिरण्यं प्रभूतं गावो दास्योऽश्वान् विन्देयं पुरुषानहम्।।

16- य: शुचि: प्रयतो भूत्वा जुहुयादाज्यमन्वहम्।
सूक्तं पंचदशर्चं च श्रीकाम: सततं जपेत्।।

**************

शुक्रवार को इस महालक्ष्मी स्त्रोत से करे यज्ञ, दौड़ा आएगी माँ लक्ष्मी





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Fatal error: Class 'WC_REST_Product_Attributes_Controller' not found in /home/rakshamx/Raga.raksham.com/wp-content/plugins/woo-gutenberg-products-block/src/RestApi/Controllers/ProductAttributes.php on line 20