ग्यारह मुखी रुद्राक्ष, जानिए लाभ और धारण करने के नियम

Share this

हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए धारण किया जाता है, ग्यारह मुखी रुद्राक्ष। भगवान शिव का रुद्र रूप है ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष। ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को शिखा में बांधना या गले में धारण करना चाहिए। ग्यारह मुखी रुद्राक्ष से जातक का भाग्योदय होता है। मान-सम्मान में वृद्धि होती है

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने के नियम

    • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करनेवाला व्यक्ति सदाचार का पालन करनेवाला तथा उसकी भगवान शिव के प्रति गहरी आस्था होनी चाहिए।
    • मांस-मदीरा या अन्य नशे की वस्तुओं से दूर रहना चाहिए।
    • रविवार, सोमवार अथवा शिवरात्रि के दिन रुद्राक्ष को धारण करना शुभ होता है।
    • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से पूर्व गंगाजल या कच्चे दूध से शुद्ध करें।
    • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को जागृत करने के लिएॐ ह्रीं हूँ नमः मंत्र का उच्‍चारण 108 बार करें।

अभी 11 मुखी रुद्राक्ष आर्डर करें  

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष के प्रभाव से आय के स्रोत खुलते है और व्यापार, कारोबार में वृद्धि होती है। व्यापारियों के लिए ग्यारहमुखी रुद्राक्ष अति उत्तम फल प्रदान करने वाला माना गया है।
  • सेहत से सम्बंधित दिक्कते कम होती है। यदि दाम्पत्य जीवन में जीवनसाथी के साथ किसी प्रकार की शारीरिक समस्या उत्पन्न हो रही है तो उससे मुक्ति मिलती है।
  • अगर किसी जातक की कुंडली में मंगल अशुभ घर में है या मंगल ग्रह की दशा या अन्तर्दशा चल रही है तो ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को पहनना उचित होता है।
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से जातक चिंतामुक्त और साहसी, निडर हो जाता है। शत्रु भय से मुक्त हो जाता है।
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष व्यक्ति के जीवन को प्रकाशमय करने में अहम भूमिका निभाता है।
  • धन-संपत्ति, भाग्योदय के लिए ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को अवश्य धारण करना चाहिए।  
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति को राजनीति, कूटनीति और हर क्षेत्र में विजय हासिल होती है।

संबंधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Like और Follow करें : Astrologer on Facebook

अभी 11 मुखी रुद्राक्ष आर्डर करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *