एक छोटा सा पाठ, जो कर देता है व्यक्ति के समस्त पाप नष्ट

Share this

इनकी उपासना बनाती है शरीर निरोगी…

वेदों में सूर्य को समस्त जगत की आत्मा माना गया है। वहीं सूर्य उपनिषद में सूर्य को ही संपूर्ण जगत की उत्पत्ति का एक मात्र कारण बताया गया है। प्राचीन काल से ही भगवान सूर्य के अनेक मंदिर भारत में बने हुए है। वैदिक साहित्य के अतिरिक्त आयुर्वेद, ज्योतिष, हस्तरेखा शास्त्रों में भी सूर्य का अधिक महत्व है। वहीं कलयुग में केवल सूर्य देव को ही एक मात्र दृश्य देव माना गया है, वहीं सनातन धर्म के आदि पंच देवों में भी ये शामिल हैं।

सूर्य देव की उपासना बनाती है शरीर निरोगी
सप्ताह के दिनों में हर भगवान का कोई न कोई दिन माना जाता है ऐसे ही सूर्य देव के लिए रविवार का दिन माना गया है। रविवार के दिन सूर्यदेवता की पूजा करने से अनेकों लाभ की प्राप्ति होती है जैसे कि यश में वृद्धि होना, शत्रुओं का दूर भागना और सारी परेशानियों से मुक्ति मिलना।

MUST READ : कोणार्क का सूर्य मंदिर – इससे जुड़े हैं ये खास रहस्य, क्या आप जानते हैं?

https://www.patrika.com/pilgrimage-trips/secrets-of-konark-sun-temple-still-remaining-6084121/

शास्त्रों के अनुसार सूर्य देव की उपासना करने से व्यक्ति का शरीर निरोगी रहता है और घर में सुख-शांति का वास बना रहता है।

जानकारों की मानें तो सूर्यदेव हमारे जीवन के अस्तित्व में महतवपूर्ण भूमिका निभाते है अगर वे दर्शन न दें तो न हमें भोजन मिलेगा और न ही पानी। वहीं पंडित सुनील शर्मा के अनुसार अगर आप जीवन में आने वाली किसी भी समस्या से मुक्ति पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सूर्य देव के निम्न दिए गए 21 नामों का सहारा लेना होगा और रविवार के दिन इन नामों का उच्चारण करना होगा।

यह नाम पवित्र माने गए हैं। वहीं ये भी मान्यता है कि इन सूर्य नामों का सूर्योदय और सूर्यास्त के समय पाठ करने से व्यक्ति के समस्त पाप नष्‍ट हो जाते हैं और सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।

भगवान सूर्य के ये हैं प्रभावशाली 21 नाम:
1. विकर्तन- विपत्तियों को नष्ट करने वाले
2. विवस्वान- प्रकाश रूप
3. मार्तंड- जिन्होंने अंड में बहुत दिनों निवास किया हो
4. भास्कर
5. रवि
6. लोकप्रकाशक
7. श्रीमान
8. लोक चक्षु
9. गृहेश्वर
10. लोक साक्षी
11. त्रिलोकेश
12. कर्ता
13. हर्ता
14. तमिस्त्रहा- अंधकार को नष्ट करने वाले
15. तपन
16. तापन
17. शुचि- पवित्रतम
18. सप्ताश्ववाहन
19. गभस्तिहस्त- किरणें जिनके हाथ स्वरूप हैं
20. ब्रह्मा
21. सर्वदेवनमस्कृत

पं. शर्मा के अनुसार ज्योतिष में माना जाता है कि सूर्य को प्रसन्न करने के लिए रविवार के दिन इन नामों का तन मन से उच्चारण करना चाहिए साथ ही इस दिन व्रत रखने से यह लाभकारी सिद्ध होते हैं| वहीं रविवार के व्रत के दिन भोजन में नमक का उपयोग न करें। इसके अलावा रविवार को सुबह सुबह नहा धो कर सूर्य को नमस्कार करना चाहिए और उनकी पूजा करनी चाहिए|

इसके अलावा इस दिन आदित्य ह्दय स्त्रोतम का पाठ खास लाभ देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *