Holi 2021: इस बार होली के दिन ये करें उपाय, होगी धन की वर्षा!

Share this

सनातन धर्म में होली का त्यौहार प्रमुख त्यौहरों में से एक माना गया है। इस दिन लोग एक-दूसरे को रंग और गुलाल लगाकर खुशियां मनाते हैं। ज्योतिष के अनुसार होली के इस पावन पर्व पर कुछ विशेष उपाय करने से आपके घर-परिवार में धन-धान्य की वृद्धि होती है और परिवार में खुशियां आती हैं।

वहीं होली पर रंगों का भी विशेष महत्व होता है, ऐसे में यह भी जानें कि इस होली आपके लिए कौन सा रंग राशि के अनुसार रहेगा लकी, राशि के अनुसार किस रंग से खेला जाए तो यह पर्व हमारे जीवन में शुभता की वृद्धि करेगा। वहीं ये भी मान्यता है कि इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा धन सम्पत्ति के भंडार भर देती हैं।

holi-rang panchami colours

राशि अनुसार इन रंगों से खेलें होली…
– मेष व वृश्चिक राशि: इन राशि वालों के लिए पीला, नारंगी, हल्के लाल, गुलाबी, केसरिया रंग शुभ हैं।

– वृषभ व तुला राशि: इन राशि वालों के लिए सभी चमकीले रंग, विशेष सफेद, नीला, फिरोजी रंग शुभ । लाल रंग का प्रयोग ना ही करें तो उत्तम।

मिथुन व कन्या राशि: इन वालों के लिए हरा, नीला, फिरोजी दही में मिले रंगों का प्रयोग किया जा सकता है।

– कर्क राशि: इन वालों कि लिए सफेद रंगों का प्रयोग करें व दही, दूध, छाछ में नारंगी, पीले, केसरिया रंगों को डाल कर प्रयोग कर सकते हैं।

– सिंह राशि वालों के लिए गुलाबी, नारंगी, सुनहरी, पीले, केसरिया रंगों का प्रयोग कर सकते हैं।

– धनु व मीन राशि: ये राशि वाले नारंगी, फालसाई, पीले, केसरिया रंगों का प्रयोग कर अपनी खुशियों में चार चांद लगा सकते हैं।

– मकर व कुंभ राशि: इन राशि वालों के लिए जामुनियां, नीले, आसमानी, हरे, फिरोजी रंगों का प्रयोग कर प्रसन्नता जाहिर कर सकते हैं।

ऐसे करें माता लक्ष्मी को प्रसन्न…
जानकारों के अनुसार होली पर पीली सरसों के जरिए मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जा सकता है। इसके लिए होलिका दहन पर पीली सरसों से हवन करें। ऐसा कहा जाता है कि इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में धन संपत्ति और भंडारे भरती हैं।

इसके लिए दोपहर में होलिका दहन की पूजा करने जाएं और शाम को होलिका दहन के समय सरसों के कुछ दानें समर्पित कर दें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

वहीं पंडित सुनील मिश्रा के अनुसार कि रंग खेलने वाली होली के दिन सुबह उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर घर के मंदिर की साफ-सफाई करें और माता लक्ष्मी का पूजन करें। पूजन सामग्री में लाल रंग के फूल जैसे गुलाब आदि, चावल, गुलाबी गुलाल और भोग लगाने के लिए सफेद या गुलाबी रंग की मिठाई, केला, सेव आदि फलों का प्रयोग करें।

माता लक्ष्मी की पूजा :
माता लक्ष्मी की मूर्ति को गंगा जल से स्नान कराएं। लाल रोली या कुमकुम का तिलक लगाकर गुलाल चढ़ाएं, अक्षत यानी चावल को गंगा जल में गीला करके चढ़ाएं। घी का दीपक जलाकर माता लक्ष्मी की आरती करने के बाद भोग लगाएं। इसके बाद माता लक्ष्मी का ध्यान कर प्रार्थना करें कि इस होली से अगली होली तक आपके घर में सुख-शांति बनी रहे। ऐसा करने से माता लक्ष्मी की विशेष कृपा आप पर बनी रहेगी।

इसके अलावा रंग पंचमी के दिन पूजा के लिए माता लक्ष्मी और श्रीहरि की कमल पर बैठे हुए एक तस्वीर को उत्तर दिशा में एक चौकी पर रखें, साथ ही तांबे के कलश में पानी भरकर रखें। इसके बाद घी का दीपक जलाकर भगवान को गुलाब के फूलों की माला अर्पित करें।

खीर, मिश्री और गुड़ चने का भोग लगाएं। फिर आसन पर बैठकर ‘ॐ श्रीं श्रीये नमः’ मंत्र का जाप स्फटिक या कमलगट्टे की माला से करें। विधिवत पूजन के बाद आरती करें और कलश में रखे जल को घर के हर कोने में छिड़कें। जिस स्थान पर धन रखा जाता है, वहां भी छिड़कें। मान्यता के अनुसार इससे धन के रास्ते खुलने के साथ ही बरकत होने लगती है।

वहीं एक अन्य उपाय के तहत रंग खेलने वाली होली के दिन गुलाबी रंग के गुलाल के 11 पैकेट लें। इन्हें गरीब बच्चों में बांट दें। यह उपाय सुबह-सुबह किया जाना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से आपके जीवन से सभी संकट दूर होंगे और घर में खुशियां आएंगी।

इसके अलावा पिचकारी या होली से संबंधित सामग्री, खाने-पीने की चीजों का भी दान कर सकते हैं। माना जाता है कि ऐसा करने से आपके जीवन में धन-धान्य की वृद्धि होगी और प्रगति के नए अवसर मिलेंगे।

रंग पंचमी के दिन ये करें…
1. आर्थिक समस्याओं को दूर करने के लिए इस दिन जल में गंगाजल और एक चुटकी हल्दी डालकर स्नान करें। पूजा के दौरान माता लक्ष्मी की नारायण के साथ वाली तस्वीर रखें और उन्हें गुलाब के पुष्प या माला जरूर अर्पित करें।

2. पूजन के बाद सूर्य देव को अर्घ्य दें। अर्घ्य के दौरान जल में रोली, अक्षत के अलावा शहद जरूर डालें।

3. रंग पंचमी के दिन एक नारियल पर सिंदूर छिड़क कर उसे किसी शिव मंदिर में जाकर महादेव को अर्पित करें। इसके अलावा तांबे के लोटे में जल लेकर इसमें मसूर की दाल डालकर शिवलिंग का जलाभिषेक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *