$0.00

दिव्य चेतना का केन्द्र-हिमालय का हृदय

पदार्थों और प्राणियों के परमाणुओं-जीवकोषों में मध्यवर्ती नाभिक ‘‘न्यूक्लियस’’ होते हैं। उन्हीं को शक्ति स्रोत्र कहा गया है और घिरे हुए परिकर को उसी उद्गम से सामर्थ्य मिलती है तथा अवयवों की सक्रियता बनी रहती है। यह घिरा हुआ परिकर गोल भी हो सकता है और चपटा अण्डाकार भी। यह संरचना और परिस्थितियों पर निर्भर है। […]

(Downloads - 1)

$0.00
$0.00

अहंकार-मुंशी प्रेमचंद -Ahankar -Munshi Premchand

गीत का नाम: अहंकार
लेखक: मुंशी प्रेमचंद
भाषा: हिंदी
गीत का साइज: 8.20 एमबी
पृष्ठ संख्या: 258
श्रेणी: कहानी
पेज क्वालिटी: मध्यम
लिंक: तेज
प्रकाशन दिनांक: 1 9 37

(Downloads - 5)

$0.00

(Downloads - 2)

$0.00
$0.00

Divodas (दिवोदास) by Rahul Sankrityayan Hindi free ebook pdf e-book name- Divodas (दिवोदास) Author- Rahul Sankrityayan File Format- PDF Language- Hindi Pages- 155 Size- 9mb Quality- good, no watermark ‘दिवोदास’ लिखने का ख्याल बहुत वर्षों से था। मेरे ऋग्वैदिक आर्य ग्रंथ को इस ग्रंथ की बड़ी भूमिका समझिये। इसलिये यहाँ बहुत लिखना नहीं चाहता। स्वास्थ्य के कारण मुझे कार्य की कर डालने का ख्याल हुआ। इसलिये लघु उपन्यास लिखना पड़ा। ऋग् वैदिकाल की घटनायें उपन्यास का विषय हो सकती हैं। शबु विजय और दाशराश युद्ध, शबर विजय आदि रूप में। दिवोदास के पुत्र सुदास के समय आयों के भीतर दाशराज्ञ का गृहयुद्ध हुआ । हो सका तो आगे लिखूंगा। -राहुल सांकृत्यायन Hindi free ebook pdf Divodas

Rahul Sankrityayan (9 April 1893 – 14 April 1963), is called the Father of Hindi Travelogue Travel literature. He is the one who played a pivotal role to give travelogue a ‘literature form’, was one of the most widely travelled scholars of India, spending forty-five years of his life on travels away from his home

(Downloads - 1)

Sale!
$5.00 $2.00
Sale!
$5.00 $2.00

Details

Book: Divodas
Author: Rahul Sankrityayan
ISBN-13: 9788122504019
Product Code 9788122504019
Binding: Paper Back
Publishing Date: 2006
Publisher: Kitab Mahal
Language: Hindi
Add to cart
$0.00
$0.00
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 28.96 MB
कुल पृष्ठ : 555

 

(Downloads - 1)

$0.00

(Downloads - 5)

$0.00
$0.00

इस पुस्तक का नाम : तांत्रिक की डायरी है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Susheel Kumar | Susheel Kumar की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें :  | इस पुस्तक का कुल साइज 11.7 MB है | पुस्तक में कुल 179 पृष्ठ हैं |नीचे तांत्रिक की डायरी का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | तांत्रिक की डायरी पुस्तक की श्रेणियां हैं : jyotish

Name of the Book is : Tantrik Ki Diary | This Book is written by Susheel Kumar | To Read and Download More Books written by Susheel Kumar in Hindi, Please Click :  | The size of this book is 11.7 MB | This Book has 179 Pages | The Download link of the book “Tantrik Ki Diary” is given above, you can downlaod Tantrik Ki Diary from the above link for free | Tantrik Ki Diary is posted under following categories jyotish |

(Downloads - 1)

$0.00
$0.00

(Downloads - 4)

$0.00

Murari Gupta (fl. 16th century) was a noted BengaliVaishnava poet, author of the Sanskrit work srikr^ShNachaitanyacharitAmrita (1513), a poetic biography of Sri Chaitanya. This work, popularly known as Murari Guptar kaRchA, is the earliest source for the life of Sri Chaitanya; later hagiographies such as the Chaitanya Charitamrita by Krishnadasa Kaviraja were based on this work.

Murari Gupta was born in a Baidya family in Sylhet and was a physician; later he became a devotee of Sri Chaitanya and moved to Navadvip.

By Murari Gupta

 

(Downloads - 3)

Hindi Books

Manav Ki Kahani

$0.00
$0.00

(Downloads - 1)

$0.00

(Downloads - 0)