Divodas By Rahul Sankrityayan

Divodas (दिवोदास) by Rahul Sankrityayan Hindi free ebook pdf e-book name- Divodas (दिवोदास) Author- Rahul Sankrityayan File Format- PDF Language- Hindi Pages- 155 Size- 9mb Quality- good, no watermark ‘दिवोदास’ लिखने का ख्याल बहुत वर्षों से था। मेरे ऋग्वैदिक आर्य ग्रंथ को इस ग्रंथ की बड़ी भूमिका समझिये। इसलिये यहाँ बहुत लिखना नहीं चाहता। स्वास्थ्य के कारण मुझे कार्य की कर डालने का ख्याल हुआ। इसलिये लघु उपन्यास लिखना पड़ा। ऋग् वैदिकाल की घटनायें उपन्यास का विषय हो सकती हैं। शबु विजय और दाशराश युद्ध, शबर विजय आदि रूप में। दिवोदास के पुत्र सुदास के समय आयों के भीतर दाशराज्ञ का गृहयुद्ध हुआ । हो सका तो आगे लिखूंगा। -राहुल सांकृत्यायन Hindi free ebook pdf Divodas

Rahul Sankrityayan (9 April 1893 – 14 April 1963), is called the Father of Hindi Travelogue Travel literature. He is the one who played a pivotal role to give travelogue a ‘literature form’, was one of the most widely travelled scholars of India, spending forty-five years of his life on travels away from his home

Please Login to Download PDF

Category: Tag: